Monday, September 28, 2015

Apoorvanand - Netaji Bose or Nehru? Which one did Bhagat Singh believe was the greater revolutionary? // Bhagat Singh (1928): नये नेताओं के अलग-अलग विचार

September 28 is the birthday of Bhagat Singh – a day to remember him and his legacy. Even 84 years after his death, he remains an eternal youth icon. Indeed, there are often complaints that the overarching presence of Gandhi and Nehru has deprived Bhagat Singh and revolutionaries like him their due place in Indian history. The complainers cite Subhash Chandra Bose as the other example.

Bhagat Singh and Bose, we are reminded, were revolutionaries who took the violent path to fight against the British. The two are seen as uncompromising fighters, whereas Gandhi and Nehru are portrayed as manipulators who negotiated their way to power. It is believed seriously by many that had India achieved freedom through the means used by Bhagat Singh and Bose, the Indian story would have been different.

In popular Indian perception, Bhagat Singh and Bose were made of the same metal – while Bose and Nehru were the two poles of pre-Independence Indian politics. Nehru was the one who supposedly led a comfortable life, whereas Bose was the one who renounced the glorious Indian Civil Service and later his position in the Congress to launch a more authentic nationalist battle against the British. The same with Bhagat Singh. He courted and chose death over life. Nehru outlived them both, using cunning to enjoy power. It was he who kept Bose away from India: so scared was he that he even asked his spy agencies to keep the whole of Bose family under watch.

But how did Bhagat Singh see the two: Bose and Nehru? What could have been his trajectory had he lived longer? Would he have joined Bose when the latter broke away from Gandhi and Nehru and went on to found Azad Hind Fauj and collaborated with Tojo and Hitler against the British? Who was his ideal between the two?

'An emotional Bengali': In 1928, Bhagat Singh, a young man of 21, published an article in the journal Kirati, titled Naye netaon ke alag-alag vichar (Different thoughts of new leaders). In this, he compared the worldviews of Bose and Nehru. Bhagat Singh wrote the article to help the youth of Punjab choose their political path at a time when there was dejection all around over the failure of the Non-Cooperation Movement and the division among Indians was reflected in the Hindu-Muslim conflicts. Which way should they go?

Read Bhagat Singh's article: नये नेताओं के अलग-अलग विचार

Bhagat Singh was not a Congressman, nor was he a member of the Communist Party of India. The young man had not spared even Lala Lajpat Rai, the revered leader of the freedom struggle, for his communal views. So, how did he look at the two nationalist leaders? In the article, Bhagat Singh pronounces Bose as an emotional Bengali, a devotee of the ancient culture of India, and regards Nehru to be an internationalist. In his view, Bose is a soft-hearted romantic and Nehru a revolutionary. After reading the speeches of the two leaders at the Amritsar and Maharashtra Congress sessions, Bhagat Singh says that although both of them are supporters of Poorna Swaraj, they are worlds apart in their thoughts.

He refers to a public meeting in Bombay in which Bose was the speaker and Nehru the chair. Bose’s speech, including the remark that India has a special message for the world, is described as a crazy rant in the Kirati article. It remarks that Bose finds the origin of everything, including Panchayati Raj and Socialism, in ancient India and notes that Bose believes that the old times were great. Bhagat Singh finds the nationalism of Bose narrow and self-obsessed and differs with his view that Indian nationalism, unlike other nationalisms, is not narrow.

He then moves to Nehru's presidential speech. Nehru contradicts Bose and says that all nations feel that they have some special and unique message for the world. “I do not find anything special in my nation. Subhash Babu believes in such things.” What is the difference between the two? Bose wants freedom from the British because they belong to the West and we are from the East. Nehru wants freedom because, according to him, we can change our social system by establishing self-rule. For social transformation, we need complete independence and self-rule.

Bhagat Singh says that for Bose, international politics matters only to the extent that it addresses the question of India’s defence and its development. On the other hand, Nehru has come out of the narrow confines of nationalism and into the open fields of internationalism. After comparing the two leaders’ thoughts, Bhagat Singh asks: “Now that we know their views, we must make our choice.” Bose, according to him, has nothing to give to the youth to quench their intellectual thrust. He has nothing for their mind.

Shunning militant nationalism: It is remarkable that Bhagat Singh was not impressed by the nationalist rhetoric of Bose and finds Nehru intellectually more challenging and satisfying. The youth of Punjab need intellectual nourishment badly and they can get it only from Nehru: “Panjabi youth should go with him [Nehru] to understand the real meaning of revolution… The youth should firm up their thought so that in the times of dejection and defeat they do not get deviated.”

This article of Bhagat Singh is ignored even by the Left. Some 10 years ago, I was asked by my friend Kavita Srivastava, a well-known human rights activist, to write a leaflet on the occasion of the martyrdom day of Bhagat Singh. I had quoted heavily from this article to give a glimpse of the intellectual make-up of Bhagat Singh. I found to my shock that the organisers of the event who were to use this leaflet had deleted these portions. Srivastava explained that Leftist friends of the forum refused to believe that these were Bhagat Singh’s thoughts. When told about the source, they said, well, this article was not significant enough.

The clarity with which Bhagat Singh could see the danger of the narrow and militant nationalism of Bose is amazing. But this is what sets him apart from other revolutionaries. Three years after the publication of this article, Bhagat Singh was hanged. Nearly 12 years after this, Bose was to flee India to shake hands with some of the biggest war criminals. Bhagat Singh’s fears about Bose were confirmed. He was not there to see them come true. How is it that we refuse to see them even today?
http://scroll.in/article/758379/netaji-bose-or-nehru-who-was-the-greater-revolutionary-according-to-bhagat-singh

Bhagat Singh (1928): नये नेताओं के अलग-अलग विचार
असहयोग आन्दोलन की असफलता के बाद जनता में बहुत निराशा और मायूसी फैली। हिन्दू-मुस्लिम झगड़ों ने बचा-खुचा साहस भी खत्म कर डाला। लेकिन देश में जब एक बार जागृति फैल जाए तब देश ज्यादा दिन तक सोया नहीं रह सकता। कुछ ही दिनों बाद जनता बहुत जोश के साथ उठती तथा हमला बोलती है। आज हिन्दुस्तान में फिर जान गई है। हिन्दुस्तान फिर जाग रहा है। देखने में तो कोई बड़ा जन-आन्दोलन नजर नहीं आता लेकिन नींव जरूर मजबूत की जा रही है। आधुनिक विचारों के अनेक नए नेता सामने रहे हैं। इस बार नौजवान नेता ही देशभक्त लोगों की नजरों में रहे हैं। बड़े-बड़े नेता बड़े होने के बावजूद एक तरह से पीछे छोड़े जा रहे हैं। इस समय जो नेता आगे आए हैं वे हैं- बंगाल के पूजनीय श्री सुभाषचन्द्र बोस और माननीय पण्डित श्री जवाहरलाल नेहरू। यही दो नेता हिन्दुस्तान में उभरते नजर रहे हैं और युवाओं के आन्दोलनों में विशेष रूप से भाग ले रहे हैं। दोनों ही हिन्दुस्तान की आजादी के कट्टर समर्थक हैं। दोनों ही समझदार और सच्चे देशभक्त हैं। लेकिन फिर भी इनके विचारों में जमीन-आसमान का अन्तर है। एक को भारत की प्राचीन संस्कृति का उपासक कहा जाता है तो दूसरे को पक्का पश्चिम का शिष्य। एक को कोमल हृदय वाला भावुक कहा जाता है और दूसरे को पक्का युगान्तरकारी। हम इस लेख में उनके अलग-अलग विचारों को जनता के समक्ष रखेंगे, ताकि जनता स्वयं उनके अन्तर को समझ सके और स्वयं भी विचार कर सके। 

लेकिन उन दोनों के विचारों का उल्लेख करने से पूर्व एक और व्यक्ति का उल्लेख करना भी जरूरी है जो इन्हीं स्वतन्त्रता के प्रेमी हैं और युवा आन्दोलनों की एक विशेष शख्सियत हैं। साधू वासवानी चाहे कांग्रेस के बड़े नेताओं की भाँति जाने माने तो नहीं, चाहे देश के राजनीतिक क्षेत्र में उनका कोई विशेष स्थान तो नहीं, तो भी युवाओं पर, जिन्हें कि कल देश की बागडोर संभालनी है, उनका असर है और उनके ही द्वारा शुरू हुआ आन्दोलनभारत युवा संघइस समय युवाओं में विशेष प्रभाव रखता है। उनके विचार बिल्कुल अलग ढंग के हैं। उनके विचार एक ही शब्द में बताए जा सकते हैं — “वापस वेदों की ओर लौट चलो।” (बैक टू वेदस) यह आवाज सबसे पहले आर्यसमाज ने उठाई थी। इस विचार का आधार इस आस्था में है कि वेदों में परमात्मा ने संसार का सारा ज्ञान उड़ेल दिया है। इससे आगे और अधिक विकास नहीं हो सकता। इसलिए हमारे हिन्दुस्तान ने चौतरफा जो प्रगति कर ली थी उससे आगे दुनिया बढ़ी है और बढ़ सकती है। खैर, वासवानी आदि इसी अवस्था को मानते हैं। तभी एक जगह कहते हैं

हमारी राजनीति ने अब तक कभी तो मैजिनी और वाल्टेयर को अपना आदर्श मानकर उदाहरण स्थापित किए हैं और या कभी लेनिन और टॉल्स्टाय से सबक सीखा। हालांकि उन्हें ज्ञात होना चाहिए कि उनके पास उनसे कहीं बड़े आदर्श हमारे पुराने ॠषि हैं” 

वे इस बात पर यकीन करते हैं कि हमारा देश एक बार तो विकास की अन्तिम सीमा तक जा चुका था और आज हमें आगे कहीं भी जाने की आवश्यकता नहीं, बल्कि पीछे लौटने की जरूरत है। आप एक कवि हैं। कवित्व आपके विचारों में सभी जगह नजर आता है। साथ ही यह धर्म के बहुत बड़े उपासक हैं। यह 'शक्तिधर्म चलाना चाहते हैं। यह कहते हैं, “इस समय हमें शक्ति की अत्यन्त आवश्यकता है।वहशक्तिशब्द का अर्थ केवल भारत के लिए इस्तेमाल नहीं करते। लेकिन उनको इस शब्द से एक प्रकार की देवी का, एक विशेष ईश्वरीय प्राप्ति का विश्वास है। वे एक बहुत भावुक कवि की तरह कहते हैं
“For in solitude have communicated with her, our admired Bharat Mata, And my aching head has heard voices saying... The day of freedom is not far off.” ..Sometimes indeed a strange feeling visits me and I say to myself – Holy, holy is Hindustan. For still is she under the protection of her mighty Rishis and their beauty is around us, but we behold it not.

अर्थात् एकान्त में भारत की आवाज मैंने सुनी है। मेरे दुखी मन ने कई बार यह आवाज सुनी है किआजादी का दिन दूर नहीं'...कभी कभी बहुत अजीब विचार मेरे मन में आते हैं और मैं कह उठता हूँहमारा हिन्दुस्तान पाक और पवित्र है, क्योंकि पुराने ॠषि उसकी रक्षा कर रहे हैं और उनकी खूबसूरती हिन्दुस्तान के पास है। लेकिन हम उन्हें देख नहीं सकते।

यह कवि का विलाप है कि वह पागलों या दीवानों की तरह कहते रहे हैं — “हमारी माता बड़ी महान है। बहुत शक्तिशाली है। उसे परास्त करने वाला कौन पैदा हुआ है।इस तरह वे केवल मात्र भावुकता की बातें करते हुए कह जाते हैं — “Our national movement must become a purifying mass movement, if it is to fulfil its destiny without falling into class war one of the dangers of Bolshevism.” अर्थात् हमें अपने राष्ट्रीय जन आन्दोलन को देश सुधार का आन्दोलन बना देना चाहिए। तभी हम वर्गयुद्ध के बोल्शेविज्म के खतरों से बच सकेंगे। वह इतना कहकर ही कि गरीबों के पास जाओ, गाँवों की ओर जाओ, उनको दवा-दारू मुफ्त दोसमझते हैं कि हमारा कार्यक्रम पूरा हो गया। 

वे छायावादी कवि हैं। उनकी कविता का कोई विशेष अर्थ तो नहीं निकल सकता, मात्र दिल का उत्साह बढ़ाया जा सकता है। बस पुरातन सभ्यता के शोर के अलावा उनके पास कोई कार्यक्रम नहीं। युवाओं के दिमागों को वे कुछ नया नहीं देते। केवल दिल को भावुकता से ही भरना चाहते हैं। उनका युवाओं में बहुत असर है। और भी पैदा हो रहा है। उनके दकियानूसी और संक्षिप्त-से विचार यही हैं जो कि हमने ऊपर बताए हैं। उनके विचारों का राजनीतिक क्षेत्र में सीधा असर होने के बावजूद बहुत असर पड़ता है। विशेषकर इस कारण कि नौजवानों,युवाओं को ही कल आगे बढ़ना है और उन्हीं के बीच इन विचारों का प्रचार किया जा रहा है।

अब हम श्री सुभाषचन्द्र बोस और श्री जवाहरलाल नेहरू के विचारों पर रहे हैं। दो-तीन महीनों से आप बहुत-सी कान्फ्रेंसों के अध्यक्ष बनाए गए और आपने अपने-अपने विचार लोगों के सामने रखे। सुभाष बाबू को सरकार तख्तापलट गिरोह का सदस्य समझती है और इसीलिए उन्हें बंगाल अध्यादेश के अन्तर्गत कैद कर रखा था। आप रिहा हुए और गर्म दल के नेता बनाए गए। आप भारत का आदर्श पूर्ण स्वराज्य मानते हैं, और महाराष्ट्र कान्फ्रेंस में अध्यक्षीय भाषण में अपने इसी प्रस्ताव का प्रचार किया।

पण्डित जवाहरलाल नेहरू स्वराज पार्टी के नेता मोतीलाल नेहरू ही के सुपुत्र हैं। बैरिस्टरी पास हैं। आप बहुत विद्वान हैं। आप रूस आदि का दौरा कर आए हैं। आप भी गर्म दल के नेता हैं और मद्रास कान्फ्रेंस में आपके और आपके साथियों के प्रयासों से ही पूर्ण स्वराज का प्रस्ताव स्वीकृत हो सका था। आपने अमृतसर कान्फ्रेंस के भाषण में भी इसी बात पर जोर दिया। लेकिन फिर भी इन दोनों सज्जनों के विचारों में जमीन-आसमान का अन्तर है। अमृतसर और महाराष्ट्र कान्फ्रेंसों के इन दोनों अध्यक्षों के भाषण पढ़कर ही हमें इनके विचारों का अन्तर स्पष्ट हुआ था। लेकिन बाद में बम्बई के एक भाषण में यह बात स्पष्ट रूप से हमारे सामने गई। 

पण्डित जवाहरलाल नेहरू इस जनसभा की अध्यक्षता कर रहे थे और सुभाषचन्द्र बोस ने भाषण दिया। वह एक बहुत भावुक बंगाली हैं। उन्होंने भाषण आरंभ किया कि हिन्दुस्तान का दुनिया के नाम एक विशेष सन्देश है। वह दुनिया को आध्यात्मिक शिक्षा देगा। खैर, आगे वे दीवाने की तरह कहना आरम्भ कर देते हैंचांदनी रात में ताजमहल को देखो और जिस दिल की यह सूझ का परिणाम था, उसकी महानता की कल्पना करो। सोचो एक बंगाली उपन्यासकार ने लिखा है कि हममें यह हमारे आँसू ही जमकर पत्थर बन गए हैं। वह भी वापस वेदों की ओर ही लौट चलने का आह्वान करते हैं। आपने अपने पूना वाले भाषण मेंराष्ट्रवादिताके सम्बन्ध में कहा है कि अन्तर्राष्ट्रीयतावादी, राष्ट्रीयतावाद को एक संकीर्ण दायरे वाली विचारधारा बताते हैं, लेकिन यह भूल है। हिन्दुस्तानी राष्ट्रीयता का विचार ऐसा नहीं है। वह संकीर्ण है, निजी स्वार्थ से प्रेरित है और उत्पीड़नकारी है, क्योंकि इसकी जड़ या मूल तोसत्यम् शिवम् सुन्दरम्है अर्थात् सच,कल्याणकारी और सुन्दर।

यह भी वही छायावाद है। कोरी भावुकता है। साथ ही उन्हें भी अपने पुरातन युग पर बहुत विश्वास है। वह प्रत्येक बात में अपने पुरातन युग की महानता देखते हैं। पंचायती राज का ढंग उनके विचार में कोई नया नहीं।पंचायती राज और जनता के राज'वे कहते हैं कि हिन्दुस्तान में बहुत पुराना है। वे तो यहाँ तक कहते हैं कि साम्यवाद भी हिन्दुस्तान के लिए नई चीज नहीं है। खैर, उन्होंने सबसे ज्यादा उस दिन के भाषण में जोर किस बात पर दिया था कि हिन्दुस्तान का दुनिया के लिए एक विशेष सन्देश है। पण्डित जवाहरलाल आदि के विचार इसके बिल्कुल विपरीत हैं। वे कहते हैं

जिस देश में जाओ वही समझता है कि उसका दुनिया के लिए एक विशेष सन्देश है। इंग्लैंड दुनिया को संस्कृति सिखाने का ठेकेदार बनता है। मैं तो कोई विशेष बात अपने देश के पास नहीं देखता। सुभाष बाबू को उन बातों पर बहुत यकीन है।जवाहरलाल कहते हैं — “Every youth must rebel. Not only in political sphere, but in social, economic and religious spheres also. I have not much use for any man who comes and tells me that such and such thing is said in Koran, Every thing unreasonable must be discarded even if they find authority for in the Vedas and Koran.” [यानी] प्रत्ये नौजवान को विद्रोह करना चाहिए। राजनीतिक क्षेत्र में ही नहीं बल्कि सामाजिक, आर्थिक और धार्मिक क्षेत्र में भी। मुझे ऐसे व्यक्ति की कोई आवश्यकता नहीं जो आकर कहे कि फलाँ बात कुरान में लिखी हुई है। कोई बात जो अपनी समझदारी की परख में सही साबित हो उसे चाहे वेद और कुरान में कितना ही अच्छा क्यों कहा गया हो, नहीं माननी चाहिए।

यह एक युगान्तरकारी के विचार हैं और सुभाष के एक राज-परिवर्तनकारी के विचार हैं। एक के विचार में हमारी पुरानी चीजें बहुत अच्छी हैं और दूसरे के विचार में उनके विरुद्ध विद्रोह कर दिया जाना चाहिए। एक को भावुक कहा जाता है और एक को युगान्तरकारी और विद्रोही। पण्डित जी एक स्थान पर कहते हैं
To those who still fondly cherish old ideas and are striving to bring back the conditions which prevailed in Arabia 1300 years ago or in the Vedic age in India. I say, that it is inconceivable that you can bring back the hoary past. The world of reality will not retrace its steps, the world of imaginations may remain stationary.”

वे कहते हैं कि जो अब भी कुरान के जमाने के अर्थात् 1300 बरस पीछे के अरब की स्थितियाँ पैदा करना चाहते हैं, जो पीछे वेदों के जमाने की ओर देख रहे हैं उनसे मेरा यह कहना है कि यह तो सोचा भी नहीं जा सकता कि वह युग वापस लौट आएगा, वास्तविक दुनिया पीछे नहीं लौट सकती, काल्पनिक दुनिया को चाहे कुछ दिन यहीं स्थिर रखो। और इसीलिए वे विद्रोह की आवश्यकता महसूस करते हैं।

सुभाष बाबू पूर्ण स्वराज के समर्थन में हैं क्योंकि वे कहते हैं कि अंग्रेज पश्चिम के वासी हैं। हम पूर्व के। पण्डित जी कहते हैंहमें अपना राज कायम करके सारी सामाजिक व्यवस्था बदलनी चाहिए। उसके लिए पूरी-पूरी स्वतन्त्रता प्राप्त करने की आवश्यकता है। सुभाष बाबू मजदूरों से सहानुभूति रखते हैं और उनकी स्थिति सुधारना चाहते हैं। पण्डित जी एक क्रांति करके सारी व्यवस्था ही बदल देना चाहते हैं। सुभाष भावुक हैंदिल के लिए। नौजवानों को बहुत कुछ दे रहे हैं, पर मात्र दिल के लिए। दूसरा युगान्तरकारी है जो कि दिल के साथ-साथ दिमाग को भी बहुत कुछ दे रहा है। 

“They should aim at Swaraj for the masses based on socialism. That was a revolutionary change with they could not bring out without revolutionary methods...Mere reform or gradual repairing of the existing machinery could not achieve the real proper Swaraj for the General Masses.अर्थात् हमारा समाजवादी सिद्धान्तों के अनुसार पूर्ण स्वराज होना चाहिए, जो कि युगान्तरकारी तरीकों के बिना प्राप्त नहीं हो सकता। केवल सुधार और मौजूदा सरकार की मशीनरी की धीमी-धीमी की गई मरम्मत जनता के लिए वास्तविक स्वराज्य नहीं ला सकती। 

यह उनके विचारों का ठीक-ठाक अक्स है। सुभाष बाबू राष्ट्रीय राजनीति की ओर उतने समय तक ही ध्यान देना आवश्यक समझते हैं जितने समय तक दुनिया की राजनीति में हिन्दुस्तान की रक्षा और विकास का सवाल है। परन्तु पण्डित जी राष्ट्रीयता के संकीर्ण दायरों से निकलकर खुले मैदान में गए हैं।

अब सवाल यह है कि हमारे सामने दोनों विचार गए हैं। हमें किस ओर झुकना चाहिए। एक पंजाबी समाचार पत्र ने सुभाष की तारीफ के पुल बाँधकर पण्डित जी आदि के बारे में कहा था कि ऐसे विद्रोही पत्थरों से सिर मार-मारकर मर जाते हैं। ध्यान रखना चाहिए कि पंजाब पहले ही बहुत भावुक प्रान्त है। लोग जल्द ही जोश में जाते हैं और जल्द ही झाग की तरह बैठ जाते हैं।

सुभाष आज शायद दिल को कुछ भोजन देने के अलावा कोई दूसरी मानसिक खुराक नहीं दे रहे हैं। अब आवश्यकता इस बात की है कि पंजाब के नौजवानों को इन युगान्तरकारी विचारों को खूब सोच-विचार कर पक्का कर लेना चाहिए। इस समय पंजाब को मानसिक भोजन की सख्त जरूरत है और यह पण्डित जवाहरलाल नेहरू से ही मिल सकता है। इसका अर्थ यह नहीं है कि उनके अन्धे पैरोकार बन जाना चाहिए। लेकिन जहाँ तक विचारों का सम्बन्ध है, वहाँ तक इस समय पंजाबी नौजवानों को उनके साथ लगना चाहिए, ताकि वे इन्कलाब के वास्तविक अर्थ, हिन्दुस्तान के इन्कलाब की आवश्यकता, दुनिया में इन्कलाब का स्थान क्या है,आदि के बारे में जान सकें। सोच-विचार के साथ नौजवान अपने विचारों को स्थिर करें ताकि निराशा, मायूसी और पराजय के समय में भी भटकाव के शिकार हों और अकेले खड़े होकर दुनिया से मुकाबले में डटे रह सकें। इसी तरह जनता इन्कलाब के ध्येय को पूरा कर सकती है।

Date Written: July 1928
Author: Bhagat Singh
Title: Different views of new leaders (Naye netaon ke alag alag vicar)
First Published: in Kirti July 1928.

see also
Chanderpal Singh: What Mahatma Gandhi did to save Bhagat Singh
Remembering Gehal Singh, who gave his life for communal harmony
Watching out for Subhas Bose: noting who came and went is Intelligence Bureau's job
I as a German prefer much more to see India under British Government than under any other...I must not connect the fate of the German people with these so-called ‘oppressed nations’ who are clearly of racial inferiority” Adolf Hitler, Mein Kampf, German ed. p. 747)
THE ROOTS OF ANTIGYPSYISM: TO THE HOLOCAUST AND AFTER
Hitler's Assault on the Golden Rule : by Claudia Koontz 
Gypsies' fate haunts Leni Riefenstahl, Hitler's favourite film-maker
The law of killing - a brief history of Indian fascism
Meenakshi Lekhi links Sonia with Mussolini. Will the RSS/BJP clarify their stance on fascism?
Imperial Japanese Army ate Indian PoWs, used them as live targets in WW2 in Papua New Guinea