Tuesday, November 25, 2014

EC finds over 3 lakh bogus voters in Narendra Modi’s Varanasi seat; Counting continues // मोदी की सीट वाराणसी में मिले तीन लाख फर्जी वोटर

Varanasi: In a stunning revelation in Indian politics, the Election Commission has so far traced 3,11,057 fake voters who casted their votes in Varanasi in the Lok Sabha election earlier this year. The district administration is expecting the number of fake voters to reach around 6,47,085 by the end of the examination process. It is to tell you that Varanasi is the LS constituency of Prime Minister Narendra Modi, who won from the seat with 3,71,784 votes.
The Election Commission was completely shocked to know such a huge number of fake voters which came into light after re-examining the voters list. The officials, who have been given the responsibility of the task, personally visited every voters’ house to see if he was the same one who placed his or her vote in the elections. This process have completed half-way and so far over three-lakh bogus voters have been traced


Earlier this year, in the Lok Sabha elections, Modi outclassed Aam Aadmi Party (AAP) candidate Arvind Kejriwal by a huge margin of 3,71,784 votes. Congress candidate Ajay Rai (75,614 votes) was at third spot followed by Bahujan Samaj Party (BSP) candidate Prakash jaiswal (60,579 votes) and Samajwadi Party’s (SP) Kailash Chaurasiya (48,291) at fourth and fifth spots respectively.
Taking consigns of the matter, the Arvind Kejriwal-led AAP has sharply criticized BJP for this development. However, no comments have been received from BJP so far. AAP has published this post over their Facebook page.  If we go by district administration’s claims, they are expecting to find around 1,12,160 bogus voters in Pindra, 1,01,456 in Ajgara, 87,140 in Shivpur, 84,757 in Rohania, 65,989 in Cantt, and 90,942 in Sewapuri regions.
Calculation is incorrect in Varanasi Election Result 2014 Here  and  Shocking EVM at Home Here 
http://kohram.in/ec-finds-over-3-lakh-bogus-voters-in-narendra-modis-varanasi-seat-counting-continues/

मोदी की सीट वाराणसी में मिले तीन लाख फर्जी वोटर
जिस वाराणासी संसदीय सीट से नरेंद्र मोदी ने 371784 वोटों से जीत हासिल की है, वहां 311057 फर्जी वोटर मिले हैं। अभी गिनती जारी है और जिला प्रशासन का अनुमान है कि फर्जी वोटरों की संख्या 647085 जा सकती है। इतनी बड़ी संख्या में फर्जी वोटर पहली बार वाराणसी में सामने आए हैं। लाखों की तादाद में मिले फर्जी वोटरों का खुलासा तब हुआ जब भारत निर्वाचन आयोग के निर्देश पर जिला प्रशासन ने मतदाता सूची का पुनरीक्षण अभियान शुरू किया। जिले के सभी पोलिंग सेंटर पर तैनात बूथ लेवल ऑफिसर से घर-घर जाकर मतदाताओं का सत्यापन करवाने के बाद इन बोगस वोटरों का खुलासा हुआ है।

वाराणसी संसदीय सीट पर हुए चुनाव में बीजेपी उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने आम आदमी पार्टी के अरविंद केजरीवाल को 371784 वोटों के अंतर से हराया था। तीसरे नंबर पर कांग्रेस उम्मीदवार अजय राय (75614), चौथे स्थान पर बीएसपी के विजय प्रकाश जायसवाल (60579) और पांचवें स्थान पर एसपी के कैलाश चौरसिया 45291 वोट पाकर रहे थे।

नरेंद्र मोदी की भारी मतों से जीत को लेकर गैर बीजेपी दल तरह-तरह के आरोप लगाते रहे हैं। मोदी पर मतदाताओं को उपहार बांटकर प्रभावित करने के साथ-साथ घोषणा पत्र में पत्नी जशोदा बेन के आय का ब्यौरा न देने का आरोप लगाते हुए कांग्रेस के उम्मीदवार अजय राय ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वाराणसी से निर्वाचन को चुनौती देते हुए याचिका दायर की है। हाईकोर्ट में इस पर सुनवाई चल रही है।

इस बीच भारत निर्वाचन आयोग के निर्देश पर पहली जनवरी 2015 को 18 साल की उम्र पूरी करने वाले युवाओं का नाम वोटर लिस्ट में जोड़ने व मतदाताओं के सत्यापन का काम चला। इस दौरान लाखों की संख्या में फर्जी वोटर सामने आए हैं। जिला प्रशासन ने तीन लाख से ज्यादा जिन फर्जी वोटरों की अभी तक शिनाख्त की है, वे एक ही विधानसभा क्षेत्र की सूची में दो जगह अपना नाम दर्ज कराने वाले थे। पुनरीक्षण अभियान के दौरान पकड़े गए 311057 वोटरों का नाम अब मतदाता सूची से कटने जा रहा है। 5 जनवरी 2015 को भारत निर्वाचन आयोग के निर्देश पर नई वोटर लिस्ट का प्रकाशन करने जा रहा है।

ऐसे पकड़े गए फर्जी वोटर
फर्जी वोटरों का नाम काटने के साथ नए मतदाताओं का नाम जोड़ने के लिए जिले की 8 विधानसभा क्षेत्रों के 1136 पोलिंग सेंटरों के 2553 पोलिंग बूथ पर तैनात 2553 बूथ लेवल ऑफिसरों ने घर-घर जाकर वोटरों का सत्यापन किया। इस सत्यापन के दौरान फर्जी वोटरों को पकड़ा गया। सहायक जिला निर्वाचन अधिकारी दया शंकर उपाध्याय ने बताया कि सबसे ज्यादा 81697 फर्जी वोटर कैंट विधानसभा क्षेत्र में पकड़े गये हैं। पिंडरा विधानसभा क्षेत्र में 35982, अजगरा में 15285, शिवपुर में 10981, रोहनिया में 19659, शहर उत्तरी में 70684, शहर दक्षिणी में 69397 और सेवापुरी में 7372 फर्जी वोटर पकड़े गे हैं। इनका नाम वोटर लिस्ट से बाहर किया जा रहा है।

फर्जी वोटरों की छह लाख से ज्यादा
मतदाता सूची पुनरीक्षण अभियान के दौरान वाराणसी संसदीय सीट पर 311057 फर्जी वोटर पकड़ने के बाद भी अभी बड़ी संख्या में यह वोटर लिस्ट में मौजूद है। जिला प्रशासन का कहना है फर्जी वोटरों की संभावित संख्या 647085 है। जिला प्रशासन की माने तो पिंडरा में 112160, अजगरा में 101456, शिवपुर में 87140, रोहनिया में 84757, उत्तरी में 61795, दक्षिणी में 42866, कैंट में 65969 व सेवापुरी में 90942 फर्जी वोटरों की संभावना अभी बनी है।
http://navbharattimes.indiatimes.com/state/uttar-pradesh/varanasi/allahabad/Narendra-Modi-Seat-Varanasi-has-more-than-3-lac-bogus-voters/articleshow/45270625.cms


'सत्यमेव जयते लेकिन सवालिया निशान के साथ' // Satyamev jayate? Does truth always triumph?
... In the matter of irresponsible speech, however, Narendra Modi leads the fray because of his high visibility and status. In a speech on March 31, Modi alleged that Assam’s government was killing rhinoceri to make space for Bangladeshis. Before this, he had alleged that his leading opponents were ‘helping Pakistan’. The latest is his comment on the FIR against him ordered by the Election Commission. He is quoted as saying: ‘One can understand if someone points a knife, a pistol or a gun. But do you know why FIR was registered against me? Because I showed a lotus to the people.’ This statement is both false and mindless. And it suggests that the EC is malicious.

Section 126 of the R.P. Act of 1951 prohibits public meetings 48 hours before the poll. No-one may hold or address any election-related meeting; or display any election matter by means of cinematograph, television or similar apparatus; or propagate any election matter by any performance intended to attract public attention for any election in the polling area, during the forty-eight hours up to the conclusion of the poll. By flaunting his election symbol for TV cameras, Modi violated Section 126. For him to say an FIR only makes sense if he were caught brandishing weapons, or for BJP to say there ‘was no formal meeting’, is a mockery of the law. There was no need for a formal meeting, because the scene was telecast to the whole country and is an irreversible act affecting the fairness of the election. I doubt Modi will be punished. Already some newspapers are conducting opinion polls on whether Modi should say sorry. Our new approach to justice is to say sorry and forget about the law.

How may we understand this assault upon our minds? The persons leading it are doing two things. They are telling officials entrusted with upholding constitutional norms, that laws can be bent by a combination of gullibility and power. This message is designed to intimidate the bureaucracy, police and judiciary. It is also designed to encourage public mindlessness - a message that says: ‘you don’t need to think, just shut your eyes and follow me’. In brief, this behaviour celebrates the uses of stupidity and fear. This situation is what the German writer Enzensberger calls the industrialization of the mind. ..
http://dilipsimeon.blogspot.co.uk/2014/05/blog-post.html